देश की खुफिया एजेंसियो की लापरवाही उजागर, विदेशी जासूस बाराबंकी में,चला रहा है प्रधानमंत्री कौशल योजना?......बिजनेस वीज़ा समाप्त होने पर भी कोरिया के जासूस पर प्रशासन की मेहरबानी से खड़े हुए सवाल..... कौन हैं,क्यों बनाया बाराबंकी में अड्डा,कैसे खरीद ली विदेशी ने अवैध रूप से प्रोपर्टी........बड़े बड़े दावे करने वाली ATS का राडार भी इस जासूस ने किया फेल......

राहुल ही नहीं योगी और मौर्य भी हारे, बृजभूषण का धोबी पाट

फ़ज़ल इमाम मल्लिक
उत्तर प्रदेश नगर निकाय चुनाव के नतीजों से भारतीय जनता पार्टी की बांछें खिल गईं हैं. भाजपा ने अच्छा प्रदर्शन किया और नतीजों के बाद नोटबंदी और जीएसटी का विरोध करने वालों पर निशाना साधा जाने लगा. योगी आदित्यनाथ की भी आरती उतारी गई. उनके कामकाज को बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया गया. ठीक भी है. दूसरों के मुकाबले योगी ने चुनाव में अपनी पूरी ताकत लगा दी थी. नगर निकाय चुनाव एक तरह से सरकार ही लड़ रही थी. ठीक उसी तरह जैसे गुजरात विधानसभा का चुनाव केंद्र सरकार लड़ रही है. तो उत्तर प्रदेश में योगी जीते और अच्छे तरीके से जीते. जीत की वजहें जो भी रहीं हो. लेकिन समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का प्रदर्शन बहु&#

आगे पढ़े

लखनऊ की सबसे युवा पार्षद पत्रकार सादिया ने पत्रकारिता' के दम पर बीजेपी को हराया

लखनऊ:  यूपी नगर निकाय चुनाव में भाजपा की लहर साफ देखने को मिली. 16 मेयर की सीटों में से 14 सीटें जीतकर एक बार फिर से बीजेपी ने साबित कर दिया कि अभी भी भाजपा का करिश्मा कायम है. मगर इस निकाय चुनाव में कुछ ऐसी भी सीटें थीं, जहां पर पार्टी तो छोड़िए, निर्दलयी प्रत्याशी से भी भाजपा को मुंह की खानी पड़ी. दरअसल, लखनऊ निकाय चुनाव में वार्ड 34 तिलकनगर से लखनऊ की सबके कम उम्र की पार्षद बनीं 23 वर्षीय निर्दलयी प्रत्याशी सादिया रफीक ने भाजपा प्रत्याशी को हराकर जीत दर्ज की. लखनऊ नगर निगम चुनाव में युवाओं का चेहरा बनीं सादिया रफीक की ये जीत कई मायनों में खास है, क्योंकि सादिया ने अपने परिवार की वजह से राजनीति को नहीं चुना

आगे पढ़े

पत्नी हुई मेयर तो पति ने दी पुलिस वालों को धमकी औक़ात में रहना बिल्ला टोपी उतरवा लूँगा

वाराणसी. बनारस के नगर निकाय चुनाव में बीजेपी की कैंडि‍डेट मृदुला जायसवाल ने जीत दर्ज की। इसकी सूचना मिलते ही उनके पति राधाकृष्ण जायसवाल साथि‍यों संग मतगणना स्थल पर पहुंच गए और गेट नंबर-1 से एंट्री करने लगे। पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोकते हुए बताया कि ये गेट अधि‍कासरियों और कर्मचारियों के लिए है तो वह हंगामा करने लगे। इसके बाद पुलिसवालों को धमकी दी कि ''बिल्ला-टोपी नोच लूंगा, कुछ दिन रुको बताता हूं।'' मामले में जब राधाकृष्ण से बात की गई तो उन्होंने सफाई देते हुए कहा, ''मुझे जानकारी नहीं थी। हमें भी सुविध मिलनी चाहिए थी। प्रशासन जो नियम बना दे, यही कानून नहीं है।''
कांग्रेस कैंडि‍डेट को हराकर मृदुला ने

आगे पढ़े

यूपी की 16 नगर निगमों में 14 पर बीजेपी जीती: योगी बोले- गुजरात का ख्वाब देख रही कांग्रेस हो गई चित

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के 16 नगर निगम, 198 नगरपालिका और 438 नगर पंचायतों के चुनाव की काउंटिंग शुक्रवार को हुई। 16 नगर निगमों में से 14 पर बीजेपी जीती और 2 पर बीएसपी को जीत हासिल हुई। नगरपालिका और नगर पंचायतों में भी बीजेपी आगे है। यूपी सिविक पोल के नतीजों के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने योगी सरकार, बीजेपी वर्कर्स और वोटर्स को बधाई दी। उन्होंने कहा- ये विकास की जीत है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने जीत के बाद कांग्रेस पर तंज कसा। उन्होंने कहा, "ये चुनाव सभी की आंखें खोलने वाला रहा और जो लोग इसे गुजरात से जोड़कर देखते थे, उनकी भी आंखें खोलने वाला रहा। गुजरात इलेक्शन में जीत का ख्वाब देख रही कांग्रेस यूपी में चित हो गई।"
क्या हैं न&

आगे पढ़े

सपा से राज्य सभा बेनी प्रसाद वर्मा ने अखिलेश पर कसा तंज, कहा नौजवान बहक गया है। समाजवादी आंदोलन अब हो गया कमज़ोर

 
 बाराबंकी -समाजवादी पार्टी की चुनावी जनसभा में  वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य बेनी प्रसाद वर्मा ने  सपा के राष्ट्रीय अध्य्क्ष अखिलेश  यादव पर तंज करते हुए कहा कि नौजवान बहक गया है। समाजवादी आंदोलन अब कमज़ोर हो गया है। अब न लोहिया  रह गए और न जेपी 
ऐसे झूठो को नंगा करने वाले थे, अब न परीक्षण होता है। जिससे नौजवान भटक जाते है। और बाद में पछताते है।
आपको ये भी बता दे कि पिछले विधानसभा चुनाव में बेनी प्रसाद वर्मा अपने बेटे राकेश वर्मा को समाजवादी पार्टी से रामनगर विधानसभा का टिकट न मिलने से नाराज़ थे। और बसपा और बीजेपी प्रत्याशियों की चुनाव में मदद पूरे जिले में जमकर की थी।अखिलेश ने भी अपनी जनस&#

आगे पढ़े

कांग्रेस के साथ हार्दिक पटेल का अश्लीलता भरा हाथ,टिकट को लेकर आपस मे जूतम पैजार

फ़ज़ल इमाम मल्लिक

लंबी जद्दोजहद के बाद आखिरकार पाटीदार नेता हार्दिक पटेल का साथ कांग्रेस को मिल गया. भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ आंदोलन की कमान संभालने वाले इस युवा पाटीदार नेता की कांग्रेस से बातचीत तो चल रही थी लेकिन हार्दिक अपने पत्ते नहीं खोल रहे थे. इस बीच हार्दिक के कई अश्लील सीडी भी सामने आए लेकिन इससे हार्दिक की लोकप्रियता पर कोई असर नहीं पड़ा. उनके कुछ साथियों ने उनका साथ भी छोड़ा और भाजपा के साथ हो लिए लेकिन हार्दिक अपने अभियान को धार देते रहे. जिस अश्लील सीडी के सहारे भाजपा हार्दिक से उनकी जमीन छीनना चाहती थी, वैसा हो नहीं पाया. उलटे उनकी सभाओं में भीड़ ज्यादा जुटने लगी. भाजपा की परेशानì

आगे पढ़े

कांग्रेस के साथ हार्दिक पटेल का अश्लीलता भरा हाथ,टिकट को लेकर आपस मे जूतम पैजार

फ़ज़ल इमाम मल्लिक

लंबी जद्दोजहद के बाद आखिरकार पाटीदार नेता हार्दिक पटेल का साथ कांग्रेस को मिल गया. भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ आंदोलन की कमान संभालने वाले इस युवा पाटीदार नेता की कांग्रेस से बातचीत तो चल रही थी लेकिन हार्दिक अपने पत्ते नहीं खोल रहे थे. इस बीच हार्दिक के कई अश्लील सीडी भी सामने आए लेकिन इससे हार्दिक की लोकप्रियता पर कोई असर नहीं पड़ा. उनके कुछ साथियों ने उनका साथ भी छोड़ा और भाजपा के साथ हो लिए लेकिन हार्दिक अपने अभियान को धार देते रहे. जिस अश्लील सीडी के सहारे भाजपा हार्दिक से उनकी जमीन छीनना चाहती थी, वैसा हो नहीं पाया. उलटे उनकी सभाओं में भीड़ ज्यादा जुटने लगी. भाजपा की परेशानì

आगे पढ़े

कांग्रेस के लिए चित्रकूट उपचुनाव के नतीजे का मतलब,शिवराज के लिये होगी मुसीबत

फ़ज़ल इमाम मल्लिक

चित्रकूट के घाट पर संतन की भीड़ तो नहीं लगी थी, नेताओं की जरूर लगी थी. मौका चित्रकूट विधानसभा के उपचुनाव का था. नतीजे भाजपा और खास कर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लिए किसी खतरे की घंटी से कम नहीं है. सत्ताधारी दल उपचुनाव हार जाए ऐसा बहुत कम होता है लेकिन मध्यप्रदेश में ऐसा हुआ है तो जाहिर है कि इसके लिए कोई एक शख्स जिम्मेदार है तो वे हैं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान. क्योंकि चित्रकूट के उपचुनाव को शिवराज सिंह ने अपनी व्यक्तिगत प्रतिष्ठा सो जोड़ डाला था. वे तीन दिन लगातार चित्रकूट में जमे रहे और एक रात तो एक गांव में आदिवासी के घर में भी बिताया. लेकिन मतदाताओं पर इ&#

आगे पढ़े
वीडियो न्यूज़